Home hindi kahaniya for kids in hindi with moral hindi stories for kids in hindi हिंदी में बच्चों के लिए हिंदी...

hindi stories for kids in hindi हिंदी में बच्चों के लिए हिंदी कहानियाँ

Hindi stories in hindi for kids. read the best collection of hindi kahani in hindi language.

कुछ अच्छी अच्छी hindi stories हमने आपके लिए लिखा है। यह hindi stories बहुत ही अच्छी है और नई hindi stories है।

इस hindi story को भी पढ़े: राजस्थान का रहस्यमई मंदिर

नेक इंसान कौन है hindi story

hindi-stories-hindi-kahani

एक बार की बात है। किसी गाँव करीब दस किसान खेत में काम कर रहे थे की अचानक आकाश काले बादलो से घिर गया।

जोर जोर से बिजली भी चमकने लगी। और कुछ ही देर में काफी तेज बारिश भी होने लगी।यह देखकर सभी किसान इधर उधर भागने लगे। सब किसान भाग कर पास के एक पुरानी मंदिर में शरण लिए।

मंदिर की दीवारें काफी कमजोर हो चली थी।

बिजली काफी गरज रही थी। और बारिश भी बढ़ती जा रही थी। बिजली जब भी गरजती थी तो मंदिर के दीवारे काँप उठाती थी।जिसमे किसान थे।

भय से कापते  हुए एक किसान ने बोला, “लगता हैं, ईश्वर हमसे नाराज हैं।”

इस पर दूसरे किसान ने कहा, “हम पर ईश्वर क्यों नाराज होगा।”

तभी डर से कापते हुए तीसरे किसान ने कहा, “जरूर हमारे बीच कोई घोर पापी हैं। हमें जल्द से जल्द उस पापी को हमारे  बिच में से ढूढकर बाहर करना होगा नहीं तो उसके वजह से हम सब मारे जायगे।

Advertisements

इस पर चौथा किसान बोला,  “मेरे पास एक योजना है। हम सब लोग अपनी टोपी खिड़की से बहार लहराए। ईश्वर ही पापी का चयन कर लेगा।”

इस योजना पर सभी किसान सहमत हो गए। इसके बाद सभी किसान ने अपनी टोपी एक खिड़की से बहार लहरा ने लगे।

तुरंत बिजली चमकी और एक टोपी राख हो गई। वह टोपी एक बुजुर्ग किसान की थी। वह बुजुर्ग किसान अब तक कुछ भी नहीं बोला था।

सब किसान उसकी और देखने लगे। वह अपने किसान साथियों से रहम की भीख मांगने लगा।

वह गिड़गिड़ाते हुए बोला, “मेरे घर पर एक पत्नी, तीन छोटे छोटे बच्चे और बूढ़े माता-पिता हैं। अगर मुझे कुछ हो गया तो उनका क्या होगा?”

किंतु किसी ने भी उसके ऊपर दया नहीं किया। और सभी ने मिलकर उसे धक्के मारते हुए मदिर से बाहर निकाल दिया।

लड़खड़ाते हुए उस किसान ने भागकर पास ही के एक पेड़ के निचे शरण लिया।

अभी वह पेड़ के नीचे पहुंचा ही होगा की फिर से एक बार जोरो की बिजली कड़की और उस मंदिर पर जा गिरी जिसके अंदर बाकी के किसान थे।

अब तक उन सभी किसान की जान इस बुजुर्ग की पुण्य कार्यो से बची थी और वह सब इसे ही पापी समझ रहे थे।

इस हिंदी स्टोरी का यह सीख है कि हम यह नहीं कहा सकते है कि कौन सही है या कौन गलत है।

Advertisements

इस हिंदी स्टोरी को भी पढ़े: एक अच्छा लड़का रोचक कहानी

दान- stories in hindi

hindi-kahaniya

राजा उदयन की रानी ने बौद्ध संघ को 500 चादरे दान की। आयुष्मान आनंद नामक भिक्षुक उन चादरों को ले जाने के लिए महल में आया।राजा ने उनका स्वागत किया और उनके वाहन पर चादरों को लदवाने का प्रबंध किया।

जब आनंद वहाँ से जाने लगे, तब राजा ने जिज्ञासा को शांत करने के लिए उनसे पूछा, “इतनी सारी चादरों का आप क्या करेंगे?”

आनंद ने उत्तर दिया, “जिन शिष्यों के वस्त्र फट गए हैं, इन चादरों से उनके लिए वस्त्र बनवा दिए जाएगें।”

सवाल जवाब थोड़ी देर और जारी रही। राजा उदयन प्रश्न पूछते रहे और आनंद जवाब देते रहे।

राजा उदयन ने फिर से पूछा, “शिष्यों के पुराने वस्त्रो का क्या होगा ?”

आनंद ने जवाब दिया, “हम उनसे बैठने की चटाई बना लेंगे। “

राजा उदयन ने पूछा, “और पुरानी चटाइयों का क्या करेगे?”

“हम उन्हें अलग अलग करके उनसे तकियों के कवर बना लेंगे।“

“पुराने तकियों के कवर का क्या करेगे ?”

Advertisements

“हम उनका पोछा बना लेंगे, जो सफाई के काम आएगा या उनको गद्दा भरने के काम में लेगे ।“

“पुराने पोछो और गद्दों का क्या करेगे?”

“हम उनका लुगदी बना लेंगे, जो दीवारों की चुनाई के काम आएगा ।“

राजा उदयन बोद्ध  संघो के से पूरी तरह संतुस्ट हो गए और उन्होंने अपने राज्य में एसी ही नियम को लागू करने का सबक सिखा।

उन्होंने आदेश दिया की कि जहा तक सभव हो, कोइ भी चीज़ व्यर्थ न की जाए।

इस hindi story का यह सीख है कि हमें अंत में सब कुछ का उपयोग करने की आवश्यकता है.

इस hindi story को भी पढ़े: जंगल के रास्ते का रहस्य

एकता में बल होता है –stories for kids in hindi

किसी जंगल में एक हाथी, घोडा और हिरन रहते थे जिनमें घनिष्ठ मित्रता थी। वे साथ साथ रहते, साथ-साथ घूमने जाते और साथ-साथ ही चरते थे। वे चारो दुःख-सुख के साथी थे।

कभी कोई जंगली जानवर उन पर हमला करता तो वे तीनो उससे मुकाबला करते और मारकर भागते। पुरे जंगल में उनका भारी देहासत था।

चीते और बाघ जैसे जानवर भी उनसे भयभीत रहते थे। एक लोमड़ी तो हमेशा उनके खिलाफ शेर के कान भरती रहती थी।

Advertisements

लेकिन उन तीनो का एकता बल देखकर शेर भी उन्हें अपना शिकार बनाने  की हिम्मत नहीं होती थी।

कुछ ही दिनों में उस लोमड़ी ने उन तीनो को अलग अलग करने का फैसला लिया।

वह एक एक से बारी बारी मिलाती और झूट कहती की उसने तुम्हारे बारे में यह बुरा कहा मुझे तो यकीं ही नही हुआ।

कुछ ही दिनों के काना फूसी में वह तीनो एक दुसरे से अलग अलग हो गए।

वे जंगल में चरने भी अलग जाते। लोमड़ी ने जाकर अपनी इस कामयाबी की सूचना शेर को दी।

वह स्वयं तो किसी का शिकार करने में असमर्थ थी, मगर वह जानती थी कि यदि शेर शिकार करेंगे तो थोड़ा मांस उसे भी खाने को मिल जाएगा।

लोमड़ी ने यह समाचार शेर को दिया। उसने मौके का लाभ उठाते हुए पहले हिरन को मार गिराया फिर घोड़े को पर वह हाथी को मारने में असमर्थ रहा।

तब जाकर हाथी को अपने किये पर और अपने मित्र के बारे में सोच कर बहुत ही दुखी होता रहा।

इस hindi story का यह सीख है कि एकता में काफी बाल होता है। एकता से कुछ भी किया जा सकता है।

इस hindi story को भी पढ़े: जन्मदिन का अनोखा तोहफा

Advertisements

stories for kids in hindi का मतलब होता है हिंदी कहानी बच्चो के लिए। तो हमने आपके लिए stories for kids in hindi लिखा है।

इस hindi story को भी पढ़े:

We collect the wonder full hindi stories for kids at one place. there are many kahani or hindi stories we collect for kids and every one how want to read hindi stories.

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Exit mobile version