Home hindi story Hindi Story for child with moral written in hindi

Hindi Story for child with moral written in hindi

Hindi Story for child with moral. Hindi Story for child are written in hindi language with the moral of story. Hindi Story for child are reading is very helpful for child.

बुद्धिहीन लड़का Hindi Story for child

एक बार की बात है एक गॉव में एक लड़का रहता था वो काफी मजाकिया स्वभाव  का था, उसके घर में कई बकरिया उसके माता पिता ने पाल राखी थी.

वह हर शाम उन बकरियों को गॉव से थोड़ी दूर लेकर चराने के लिए ले जाया करता था , जैसे की हमे मालूम है की वो काफी शरारती लड़का था.

तो उसको एक दिन एक शरारत सुज्ही उसने सबको परेशान करने के लिए जोर जोर से हल्ला मचाना सुरु कर दिया. उसने हल्ला करते समय कहा की भागो भागो शेर आया. उसकी इस बात को सुनके सरे लोग दोड़ कर उसको बचाने  के लिए आ जाते.

और जब उसके पास पहुचते तो वो कहता की मैंने सबको उल्लू बना दिया. उसकी इस बात से सरे लोग उसपे गुस्सा होकर वहा से चले जाते, उसने कई दिनों तक नोगो को ऐसे ही उल्लू बनाया एक दिन. वो जब अपनी बकरियों को चराने के लिए खेत में ले गया तो उनसे देखा की उसकी एक बकरी के पास सच मच का शेर खड़ा है.

उसने जोर जोर से आवाज़ लगाना सुरु कर दिया. लेकिन उसकी बात पे किसी को यकीं नही हुआ. सबको लगा की वो फिर से सबको उल्लू बना रहा है. वो लड़का रोना सुरू  कर देता है. और वो सोचने लगता है की उसने क्यों इतनी बड़ी गलती कर दी. उसकी आखो के सामने वो शेर उसकी सारी बकरियों को एक एक करके खा जाता है.

उस दिन से उस लड़के ने अपनी आदत वो बदल लिया और कसम खाई की वो अब दुबारा किसी को उल्लू नही बनायेगे. और कभी भी झूठ नही बोलेगा.

कहानी का सार -इस कहानी से हममे यह मालूम चलता है की मजाक वही तक करना चाहिए जहां तक अच्छा लगे. और हमें यह भी सीख मिलती है की हमे कभी भी किसी के भरोसे को नहीं तोड़ना चाहिए।

the moral of Hindi Story for child is jokes should be done as far as possible. And we also get to learn that we should never break anyone’s trust.

You can also read them

नैतिक के साथ बच्चे के लिए हिंदी कहानी। बच्चे के लिए हिंदी कहानी कहानी के नैतिक के साथ हिंदी भाषा में लिखी गई है। बच्चे के लिए हिंदी कहानी पढ़ रहे हैं बच्चे के लिए बहुत उपयोगी है।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Exit mobile version