Best 10 Moral Hindi Story with lesson | हिंदी नैतिक कहानी बच्चों के लिए

वैसे तो बहुत से Hindi story with moral आपने पढ़े व सुने होंगे। अगर आप भी Hindi story moral के साथ पढ़ना पसंद करते है। तो हमें आपके लिए अच्छी से अच्छी Hindi story moral को लिखा है।

इन सभी हिंदी स्टोरी को पढ़ने के बाद आपको भी बहुत ही मजा आने वाला है। अकसर हमें हर एक हिंदी स्टोरी से कुछ सीखने को ही मिलता है।

यह कहानी पढ़े: best real friendship story in hindi

विश्वास और चमत्कार – hindi story moral

Hindi-story-with-moral

this hindi story moral is Anything is done by our believes

गंगास्नान के बारे में समाज में ऐसी मान्यता है कि गंगा में डुबकी लगाने से सारे पाप धूल जाते है और व्यक्ति पापो से मुक्त होकर बाहर आता है। एक बार एक महिला एक गड्ढे में गिर पड़ी और मदद के लिए पुकारने लगी।

पुकार सुनकर एक व्यक्ति वहाँ पहुँचा और उसने महिला को गड्ढे से निकालने के लिए अपना हाथ बढ़ाया, ताकि वह उसका हाथ पकड़ कर बाहर निकाल सके। महिला ने कहा, अगर तुम पाप मुक्त हो, तभी मुझे हाथ दो, वरना मेरा सारा पाप तुम्हारे भीतर चला जाएगा।

यह सुनकर उस व्यक्ति ने तुरंत ही अपना हाथ खींच लिया।

इस तरह सारा दिन निकल गया। कई लोग आए और महिला को मदद की पेशकश की, लेकिन वह सब के सामने यही शर्त रख देती।

यह सुनकर हर कोई मदद करने से पीछे हट जाता। जब शाम होने लगी,तभी एक नौजवान वहाँ आया और उसने मदद का प्रस्ताव रखा। महिला ने अपनी शर्त रखी।

इस पर नौजवान बोला कि अगर तुम्हारा पाप मुझसे आ भी जाते है तो भी इसकी मुझे कोई चिंता नहीं है, क्योंकि मैं तो अभी गंगा में डुबकी लगाकर आ रह हूँ और उस गंगा स्नान से मेरे सारे पाप धूल गए है।

इसलिए तुम्हे अब डरने की कोई बात नहीं है। मेरा हाथ पकड़ो, ताकि मैं तुम्हें गड्ढे से बाहर निकाल सकू। “

यह Hindi story पढ़ने के बाद आपको यह सीख मिलता है कि अगर विश्वास होता है तो चमत्कार हो सकता है।

यह जो Hindi story with moral हमने लिखी है यह सब ज्ञान से भरी hindi story है।

यह कहानी पढ़े: अकबर बीरबल के किस्से और कहानी

समय से पहले तैयारी Hindi story

Hindi story with moral समय से पहले
Hindi story with moral समय से पहले

एक किसान का खेत समुद्र के किनारे पर था। उसने इस खेत को किसी अन्य किसान को इस खेत में काम करवाने के लिए कई विज्ञापन दिए। लेकिन ज्यादातर लोग समुद्र तट पर स्थित खेत में काम करने के इच्छुक नहीं थे।

समुद्र के किनारे प्राय भयंकर तूफान उठते रहते थे. जो जान-माल और फसलों को नुकसान पहुंचाते थे। उस किसान ने कई लोगों को अपने सहायक के रूप में कार्य करने के लिए आरक्षण तक देने को तय था।

परंतु सभी ने मना कर दिया। अंत में एक बुजुर्ग इस काम के लिए तैयार हो गया। वह बुजुर्ग व्यक्ति व्यवहार में बहुत ही टेढ़ा था।

वह बहुत काम बोलना पसंद करता था और उसका शरीर दुबला पतला था । वह बुजुर्ग व्यक्ति किसान के पास आया।

किसान ने उस बुजुर्ग व्यक्ति से पूछा, खेती किसानी जानते हो। उस बुजुर्ग व्यक्ति ने उत्तर दिया, हाँ, मैं खेती जनता हूँ और मैं उस समय सो सकता हूं जब तूफान आ रहा हो।

बुजुर्ग आदमी के इस जवाब से किसान बिलकुल संतुष्ट नहीं था। किंतु उसके पास उसे रखने के अलावा और कोई दूसरा रास्ता नहीं था। वह बुजुर्ग व्यक्ति सुबह से शाम तक खेत में काम में लगा रहा था। किसान भी उसकी काम से संतुष्ट था।

एक रात समुद्र की ओर से तूफान की खौफनाक आवाजें आने लगी। किसान काफी डर गया। किसान अपने बिस्तर से बाहर निकला और अपनी लालटेन को जलाया।

इसके बाद वह किसान दौड़ते हुए उस बुजुर्ग व्यक्ति के पास पहुंचा। वह किसान बहुत ही नाराज हुआ. यह देखकर की इतनी तूफान में वह व्यक्ति सो रहा है। उसको झटका देकर किसान ने जगाया और कहा जल्दी उठो तूफान आ रहा है।

सभी चीजें को बांध लो ताकि तूफान उन्हें उड़ाना ले जा सके। उस आदमी ने करवट बदलते हुए कहा, नहीं श्रीमान! मैंने आपसे पहले ही कहा था कि मैं उस समय सो सकता हूँ जब तूफान आ रहे हो।

उस किसान को बुजुर्ग आदमी के इस दो टूक उत्तर से बहुत गुस्सा आया। वह तत्काल उसे नौकरी से निकालना चाहता था। लेकिन वह तूफान से बचाव के लिए बाहर भागा। बाहर का नजारा देखकर वह व्यक्ति आश्चर्यचकित और खुश दोनों हुआ।

उसने देखा की खेत की सूखी-घास के ढेर तिरपाल से ढके हुए थे। सभी गाय अपने तबले में बँधी हैऔर मुर्गियां अपने दरबे में थी साथ ही साथ दरवाजे बंद थे। हर चीज़ भी बंधी थी और एकत्रित थी।

कुछ भी तूफान में उड़ नहीं सकता था। किसान को तब जाकर उस बुजुर्ग आदमी की बात का अर्थ समझ में आया। वह किसान अपने बिस्तर की ओर लौटा और आराम से सो गया।

कहानी से सीख:- यह Hindi story पढ़ने के बाद आपको यह सीख मिलता है कि हमें अपने काम समय रहते कर लेना चाहिए।

यह कहानी पढ़े: बेस्ट तेनालीराम स्टोरी

दूसरों की गलती से सीख – हिंदी स्टोरी

किसी जंगल में शेर गधा और लोमड़ी रहते थे। एक दिन शेर, गधा और लोमड़ी एक साथ शिकार पर गए।उन तीनो ने तय किया कि वे जो भी शिकार करेंगे उस शिकार को आपस में बाट लेंगे। उन तीनों ने काफी देर तक शिकार खोजा और अंत में एक हिरन का शिकार किया।शेर ने गधे से उसका बंटवारा करने को कहा।

गधे ने उसके तीन बराबर भाग कर दिए और अपने दोनों मित्रो से अपना हिस्सा लेने के लिए कहा। यह सुनकर शेर को गुस्सा आ गया और उसने गधे पर हमला करके उसे मार डाला। तब शेर ने लोमड़ी से शिकार का आपस में बटवारा करने को कहा। लोमड़ी ने बहुत बुद्धिमता दिखाते हुए अपने लिए जरा सा हिस्सा बचाकर रखा और शेष शेर के हिस्से में दे दिया।

शेर बोला, “मेरे मित्र! किसने तुम्हे इतना अच्छा बटवारा करना सिखाया है ?”

लोमड़ी ने कहा, “मुझे गधे का अंजाम याद है और इससे ज्यादा सबक लेने की आवश्यकता नहीं हैं। “

यह Hindi story पढ़ने के बाद आपको यह सीख मिलता है कि खुद की गलती से बेहतर है, दुसरो की गलती से सबक लेना चहिए।

यह कहानी पढ़े: ज्ञान की कहानी

कर्मो का फल – बेस्ट हिंदी स्टोरी

कही दूर एक शिकारी रहा करता था। वह जंगल में शिकार करके अपने जीवन को चलाया करता था। वह कई साल से शिकार किया करता था।

अब वह एक बहुत ही अच्छा शिकार बन चूका था। वह शिकारी बिना निशान लगाए ही तीर चला दिया करता था। पर उसका निशाना चुकता नहीं था।

हर तीर निशाने पर जाकर ही लगती थी। उस शिकारी का एक लड़का भी था। शिकारी के लड़के का उम्र अभी 10 साल था। शिकारी अपने लड़के को भी शिकारी बनाना चाहता था।

शिकारी अपने लड़के को कुछ-कुछ समय पर जंगल में ले जाकर शिकार करना सिखाया करता था। शिकारी का लड़का भी अपने पिता से काफी खुश रहा करता था। वह भी अपने पिता के जैसा ही बनना चाहता था।

एक दिन की बात है। शिकारी अकेले ही जंगल में शिकार करने चला गया। उस शिकार को जंगल में एक हिरनी और उसका बच्चा नजर आया, हिरनी का बच्चा काफी ज्यादा खूबसूरत लग रहा था।

उसको देखती ही बन रहा था। पर शिकारी को यह खूबसूरती कहा नजर आने वाली थी। उसने अपने धनुष से हिरनी के बच्चे पर तीर चला दिया। हिरनी का बच्चा जमीन पर गिर कर तड़पने लगा।

हिरनी अपने बच्चे को छोड़ कर न भाग सकी। वह अपने बच्चे के जख्म को चाटने लगी। इधर शिकारी यह देखकर और भी खुश हुआ। उसे लगा कि आज एक ही समय में दो शिकार मिल जाएगा।

उसने फिर एक तीर को चला दिया। वह तीर हिरनी को जा लगी। अब वह भी जमीन पर गिर कर तड़पने लगी। फिर से शिकारी को झाड़ियों में से कुछ हिलने की आवाज आई।

शिकारी को लगा कि आज तीन शिकार एक ही साथ मिल गए। उसने एक और तीर झाड़ियों में चला दिया। तीर लगने के बाद एक चीख निकली।

यह चीख किसी इंसान की थी। जब शिकारी झाड़ियों में गया तो उसने देखा कि वह अपने बेटे को ही तीर से मार दिया है। उसके बेटे की वही मृत्यु हो गई।

शिकारी अपने बेटे की लास को लेकर रो रह था। तभी झाड़ियों में से आवाज आई। शिकारी अभी देखता कि तभी एक शेर ने शिकार को मौत की नींद सुला दिया।

यह पढ़े: 27 हिंदी पहेलियाँ उत्तर के साथ

moral Hindi story पढ़ने के फायदे

वैसे तो Hindi story moral पढ़ने के बहुत से फायदे है। जैसे की बच्चो को हिंदी पढ़ने से हिंदी में पढ़ने में फायदा होता है।

इसका मतलब वह हिंदी भाषा को आराम से पढ़ सकते है।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here