Home careers इंजीनियर कैसे बने? engineer बनने की पूरी जानकारी

इंजीनियर कैसे बने? engineer बनने की पूरी जानकारी

परीक्षा को पास करने के बाद छात्रों के जीवन में आगे की पढ़ाई को लेकर तरह-तरह की उलझने होती है। इसमें सबसे बड़ी दिक्कत उन्हे अपने करियर के चुनाव को लेकर होता है कि वह किसमे करियर बनाए।

अपने करियर का चुनाव करने से पहले आप अपनी रुचि का खास ख्याल रखे आपको अपनी अभिरुचि के अनुसार ही आगे का करियर चुनना चाहिए। तभी आपको बड़ी सफलता हासिल हो सकती है।

बहुत से छात्र ऐसे होते हैं जो किसी की देखा-देखी कैरियर का चुनाव कर लेते हैं और बाद में उन्हें पछताना पड़ता है। आपने कुछ ऐसे विद्यार्थियों को देखा होगा जो शुरू से ही अपने करियर को किस दिशा में ले जाना है।

जैसे कि कुछ छात्रों की आर्ट बहुत अच्छी होती है तो ऐसे में वे आर्किटेक्चर या फैशन डिजाइनिंग के करियर को चुनते हैं। वही कुछ ऐसे भी छात्र होते हैं जिनको चीजों को सृजन करना अच्छा लगता है।

ऐसे छात्र इंजीनियरिंग लाइन को चुनते हैं, यदि आप भी इस फील्ड में जाना चाहते हैं तो इसके लिए आपको इस ब्लॉग को पूरा पढ़ना होगा. यहां पर आपके सभी प्रश्नों का जवाब बखूबी दिया जाएगा.

आमतौर पर लोगों के मन में प्रश्न रहता है कि इंजीनियर कैसे बने? इसके लिए क्या पढ़ाई करनी होती है? इंजिनियरिंग करने के लिए छात्र की बेसिक क्वालीफिकेशन क्या होनी चाहिए? एक सफल इंजीनियर की शुरुआती सैलरी कितनी होती है? इन चंद प्रश्नों का जवाब आपको इस ब्लॉग के जरिए दिया जाएगा।

यह भी जाने: Scientist कैसे बने

how to become engineer hindi

इंजीनियरिंग किसे कहते हैं

इंजीनियर किसे कहते हैं इस प्रश्न को अक्सर प्रतियोगी छात्र पूछते रहते हैं

आपके मन में प्रश्न उठ रहा होगा कि इंजीनरिंग किसे कहते हैं तो हम आपको बताते चलें की एक इंजीनियर जो कार्य करता है उसे सरल शब्दों में इंजीनियरिंग के नाम से जानते हैं।

अब छात्रों के मन में प्रश्न उठ रहा होगा की एक इंजीनियर कि क्या क्या भूमिका होती है, यानी कि बतौर इंजीनियर आपको क्या करना होता है तो हम आपकी जानकारी के लिए बता दें की इंजीनियरिंग का कोर्स कर लेने और प्रोफेशन में आने के बाद आपको तरह तरह के रोल दिए जाते है।

आपको रोड ,पुल और बिल्डिंग को बनाने का कार्य मिल सकता है। इसके अतिरिक्त कोर्स के दौरान ही आपको नई चीजों का आविष्कार करने के साथ-साथ उन्हें सही आकार देकर इंजीनियर को निरंतर टेस्ट करने के बारे में भी ट्रेनिंग देता है।

इस प्रकार से इंजीनियर की भूमिका के विषय में अब तक तो आपको जानकारी मिल गई होगी। इंजीनियर के कई प्रकार होते हैं जो कि आपकी रुचि पर निर्भर करता है कि आप engineering की किस फील्ड में जाना पसंद करते है।

इंजीनियरों के प्रकार

इंजीनियर कई क्षेत्रों में बटा होता है चलिए हम कुछ ऐसे ही इंजीनियर के प्रकार बताते है (Types of Engineers in Hindi)

इलेक्ट्रिकल इंजीनियर

जैसा कि नाम से ही आपको स्पष्ट हो गया होगा कि इस क्षेत्र में बतौर इंजीनियर आपको किस प्रकार का काम सौंपा जाएगा। इस प्रकार के प्रोफेशन में थोड़ा रिस्क होता है क्योंकि यहां पर इंजीनियर को इलेक्ट्रिसिटी से जुड़े विभिन्न उपकरणों पर कार्य करना होता है।

मैकेनिकल इंजीनियर

इंजिनियरिंग की इस ब्रांच में आपको मशीनों में खास दिलचस्पी होनी चाहिए। ऐसे छात्र ही मैकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई करते हैं। इस क्षेत्र में आपको पूरी तरह से मशीन के बारे में छोटी से लेकर बड़ी जानकारी दी जाती है और आप हर समय मशीनों के इर्द-गिर्द ही घिरे रहते हैं।

सिविल इंजीनियर

सिविल इंजीनियर की भूमिका मुख्य तौर पर सरकार के दिए गए निर्देश के अनुसार कार्य करते हैं। जिनमें किसी रोड, स्कूल या अस्पताल के अतिरिक्त पुल का निर्माण करना शामिल है।

कंप्यूटर इंजीनियर

वर्तमान समय टेक्नोलोजी का है, जिसमें कंप्यूटर का विशेष महत्व है। समय के साथ-साथ कंप्यूटर इंजीनियर की मांग बढ़ती जा रही है। एक कंप्यूटर इंजीनियर की भूमिका मुख्य तौर पर हार्डवेयर के साथ-साथ कंप्यूटर को डिजाइन और डिवेलप करने की विशेष योग्यता रखते हैं।

सॉफ्टवेयर इंजीनियर

आज के समय में लेटेस्ट स्मार्टफोन रखने का शौक हर किसी का होता है. इसके साथ-साथ आपको विभिन्न प्रकार के एप्लीकेशन की जरूरत हर समय पड़ती रहती है और सॉफ्टवेयर डिवेलप करने और ऐप डेवलपिंग करने का कार्य एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर ही करता है।

इसके अतिरिक्त भी आपको इंजीनियरिंग के कई कोर्स कर सकते हैं। जिनमें ऊर्जा इंजीनियरिंग, फोटोनिक्स इंजीनियरिंग, हाइड्रोलिक इंजीनियरिंग, टेक्नोलॉजी इंजीनियरिंग, कृषि इंजीनियरिंग, ओसियन इंजीनियरिंग और पैट्रोलियम इंजीनियरिंग आदि आते हैं। इसमें भी रोजगार के अपार संभावनाएं होती है।

इंजिनियरिंग स्टूडेंट अब तक तो जान ही गए होगे कि इंजीनियर कौन होते हैं ?उनका क्या कार्य होता है और इसके साथ ही इंजीनियर कितने प्रकार के होते हैं.

इंजीनियर बनने के लिए योग्यता

इंजीनियर बनना और इसकी पढ़ाई करना इतना आसान नहीं होता जैसा की आप सोच रहे। इसके लिए आपको एक अच्छी रणनीति तैयार करनी पड़ती है और उसी के मुताबिक पढ़ाई करनी होती है। तो चलिए जानते हैं कि इंजीनियर बनने के लिए एक विद्यार्थी के तौर पर आपके अंदर कौन-कौन सी योग्यता होनी चाहिए ?

इंजीनियर बनने के लिए प्रथम चरण में छात्र का 12वीं कक्षा में अच्छे अंक हासिल करना जरूरी होता है तभी वह इंजीनियर बन सकते हैं। इंजीनियरिंग की पढ़ाई 3 वर्ष की होती है।

इसके अतिरिक्त अन्य भी कई कोर्स है जिसे पूरा करके आप इंजीनियर बन सकते हैं, जिनमें 12वीं में अच्छे अंकों के साथ उत्तीर्ण होना अनिवार्य है।

इंजीनियरिंग के लिए आप जिस भी ब्रांच में जाने के इच्छुक है आप जा सकते हैं। इसके लिए आपको साइंस और मैथ पर अच्छी पकड़ होना जरूरी होता है।

यह भी जाने: teacher कैसे बने

इंजीनियर कैसे बने

इंजीनियर बनने के लिए आपको 3 साल की पढ़ाई करनी होती है, इस दौरान आपको किसी नई वस्तु का सृजन करने की क्षमता होनी चाहिए।

आप जानते ही होंगे कि सफलता 1 दिन में नहीं मिलती है इसी तरह इंजीनियर बनने के लिए आपको कड़ी मेहनत और लग्न की जरूरत पड़ती है। यदि इंजीनियर की डिग्री की बात करें तो छात्र के लिए कई डिप्लोमा और डिग्री पर आधारित कोर्स कॉलेज में संचालित किए जाते हैं।

सही विषय का चुनाव करे

इंजीनियरिंग की विभिन्न शाखाएं होती है, अब यह आपके ऊपर निर्भर करता है कि आप इंजीनियरिंग की कौन सी शाखा का चुनाव करते हैं। आपके चुनाव करने के बाद ही आप इसके आगे की पढ़ाई कर सकते हैं।

इंजीनियर बनने के लिए आपको डिग्री या डिप्लोमा की आवश्यकता होती है। 12वीं में छात्र का साइंस विषयों के साथ पास होना अनिवार्य होता है। तभी वह आगे चलकर बीटेक करके इंजीनियर बन सकता है।

डिप्लोमा या डिग्री प्राप्त करें

दसवीं के बाद से ही विद्यार्थी इंजीनियरिंग की तैयारी कर सकता है इसके लिए उसे 12वीं में साइंस विषयों को लेना अनिवार्य होता है। 12वी के बाद छात्र मेडिकल और नॉन मेडिकल विषयो को सेलेक्ट करना होता है। कुछ ऐसे विधार्थी होते है आईआईटी करने के बाद बीटेक करते है ठीक ऐसा ही पॉलिटेक्निक करने वाले स्टूडेंट करते है।

कैंपस सिलेशन से कंपनी ज्वाइन करे

अंतिम वर्ष के छात्र केंपस सिलेक्शन के जरिए इंटरव्यू देकर मल्टीनेशनल कंपनी ज्वाइन कर सकते हैं लेकिन इसके लिए उनके पास डिग्री होना जरूरी होता है।

इंजीनियर बनने के लिए कोर्स

इंजीनियर बनने के लिए जैसा कि हमने बताया कई कोर्स मौजूद है, डिग्री के अलावा आप डिप्लोमा भी कर सकते हैं।

डिप्लोमा इंजीनियरिंग कोर्स

इस कोर्स को पूरा करने के लिए आपको 3 वर्ष का समय लगता है। विद्यार्थी का साइंस और मैथ विषयों से पास होना आवश्यक माना जाता है।

  • Diploma In Information Science
  • Diploma In Automobile Engineering
  • Diploma In Computer Science
  • Diploma In Mechanical Engineering
  • Diploma In Civil Engineering
  • Diploma In Electrical Engineering
  • Diploma In Electronic Instrumentation and Control Engineering

बैचलर इंजीनियरिंग कोर्स

12 की परीक्षा के बाद आप इस कोर्स को कर सकते है। आपका 12वी में साइंस विषयो का लेना अनिवार्य है। नीचे चुनिंदा कोर्स की लिस्ट दी गई है आप अपनी अभिरुचि के अनुसार चुन सकते है ।

  • Automobile engineering
  • Biotechnology engineering
  • Civil Engineering
  • mechanical Engineering
  • Aerospace engineering
  • chemical Engineering
  • computer Engineering
  • Industrial engineering
  • Information Technology Engineering
  • Metallurgical engineering

यह भी जाने: Bank manager कैसे बने

इंजिनियरिंग करने के लिए कौन से कॉलेज अच्छे माने गए है?

एक सफल इंजीनियर बनने के लिए आपका एक अच्छे कॉलेज से इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल करना आवश्यक होता है। तभी डिग्री के बाद आपको बतौर इंजीनियर लाखो की सैलरी उठाते हैं। भारत की टॉप इंजीनियरिंग कॉलेज की लिस्ट जानने के नीचे गौर करें:-

  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी
  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी दिल्ली
  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी खड़कपुर
  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी मुंबई
  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी रायपुर
  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी रुड़की
  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी ,पिलानी
  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, दिल्ली
  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी,धनबाद
  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी इंदौर

इंजीनियर का सैलरी पेकेज

प्रोफेशन कोई भी हो लेकिन उसकी सैलरी बेहद अहमियत रखती है और यदि आप इंजीनियर के पेशे से बिलॉन्ग करते हैं तो ऐसे में मोटे तौर पर आपकी सैलरी लाखों की होती है।

आप जिस भी फील्ड के इंजीनियर होंगे उसी के अनुसार आपकी सैलरी दी जाएगी यह आपके अनुभव पर भी निर्भर करती है। एक मैकेनिकल इंजीनियर की सैलरी की माने तो वह लगभग चार लाख सालाना होती है।

वही एक कंप्यूटर इंजीनियर की सैलरी की बात करे तो वह उसके अनुभव पर डिपेंड करता है उसकी सैलरी महीने की 30 से 40 हजार के आस पास होती है।

सिविल इंजीनियरिंग करने वालो की सैलरी 3 से लेकर 4 लाख प्रतवर्ष होती है।सिविल इंजीनियर की तुलना में सॉफ्टवेयर इंजीनियर की सैलरी अधिक होती है। यह तकरीबन 5 से 10 लाख प्रति वर्ष मानी जाती है।

यह भी जाने: CID officer कैसे बने

निष्कर्ष

इंजिनियरिंग के क्षेत्र में करियर बनाने वाले के लिए यह आर्टिकल काफी इनफॉर्मेटिव साबित हुआ होगा क्योंकि इस ब्लॉक में इंजीनियर बनने से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी दी गई है।

जिनमें इंजीनियर कैसे बने, इंजीनियर कितने प्रकार के होते हैं, इंजीनियर के अंदर कौन सी योग्यता होनी चाहिए, इन सभी के बारे में आपको महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान की गई है।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Exit mobile version