शेर और चूहे की कहानी हिंदी में Lion and mouse story in hindi

sher aur chuha ki kahani in hindi. Lion and mouse story hindi (शेर और चूहे की कहानी) is famous story. everyone read and listen Lion and mouse story hindi in child age. Here Lion and mouse story is written in hindi language for you.

sher aur chuha की कहानी आपको पढ़ने के लिए हमने लिखा है। sher aur chuha ki kahani बहुत पुरानी हिंदी कहानी है इस कहानी को अंग्रेजी में भी लिखा गया है।

शेर और चूहा की कहानी में यह बताया गया है की कोई छोटा हो या बड़ा। वक्त आने पर छोटा वह कर सकता है जो बड़ा नहीं कर सकता। किसी के शरीर के आकर पर उसे कमजोर व मजबूत न समझे।

यह कहानी भी पढ़े: लालची कुत्ता की कहानी हिंदी में

शेर और चूहे की कहानी -Lion and mouse story hindi

किसी जंगल में एक शेर रहता था। एक दिन वह शेर अपना भोजन करने के बाद एक पेड़ के नीचे सो गया। उसी पेड़ के नीचे एक चूहे का बिल था।

चूहा अपने बिल से बाहर निकला और उसने शेर के पूंछ को देखा, वह उस पूंछ पे चढ़ कर खूब उछलने कूदने लगा। वह चूहा शेर की पूंछ पर चढ़ाता और पूंछ के ऊपर से सरकता हुआ नीचे आता।

इस उछल कूद से शेर की नींद खुल गई। उसने झट से चूहे को अपने नाख़ून दार पंजो में पकड़ लिया। उस शेर ने कहा तुम्हारी इतनी हिम्मत की तुमने मेरी नीद को ख़राब किया।

अब बताओ मैं तुम्हारे साथ क्या करो? चूहे ने डरते हुए कहा, महाराज! मुझे माफ़ कर दीजिए, मैं दोबारा ऐसी गलती नहीं करुगा।

मैं आपकी इस दया को कभी नहीं भूलूंगा। इसके बदले मैं आपकी कुछ सहायता जरूर करुगा। इस पर शेर ने कहा, तुम इतने छोटे से जीव मेरी क्या सहायत क्या करोगे।

अच्छा चलो मैं तुम्हें छोड़ देता हु। इस तरह उस चूहे की जान बच गई।

अभी कुछ ही दिन बीते थे कि शेर एक जल में फस गया। वह जाल शिकारियों के द्वारा बिछाई गई थी। उस जाल में फशने के बाद शेर बड़ी जोर जोर से दहाड़ने लगा।

यह दहाड़ जंगल के सभी जानवर सुन पा रहे थे। यह आवाज चूहे को सुनाई दी। उसने बिना कुछ सोचे उस आवाज की तरफ दौड़ा और जल्द ही शेर के पास पहुँच गया।

उसने शेर से कहा, आप डरिए मत. मैं इस जाल को काट कर आपको आजाद कर दूंगा। इसके बाद चूहे ने जाल काटना शुरू कर दिया।

कुछ ही देर में चूहा उस जाल को काट कर शेर को आजाद कर दिया। शेर ने कहा, तुम वही चूहे हो न जिसे मैं मारने वाला था। चूहे ने कहा ‘जी! महाराज’।

शेर को अपने व्यवहार पे बहुत ही पछतावा हो रहा था। उसने चूहे से कहा तुम सही कह रहे थे। आज तुम मेरी सहायता नही करते तो मेरी जान नहीं बचती। अब आज से हम दोनों दोस्त है।

यह कहानी भी पढ़े: टोपीवाला और बंदर की कहानी

कुछ और हिंदी कहानी

यह कहानी भी पढ़े: ज्ञान की स्टोरी हिंदी में

यह कहानी भी पढ़े: अकबर बीरबल की कहानी

Previous articleHindi story of kids with moral in short
Next articleBest 10 Moral Hindi Story with lesson | हिंदी नैतिक कहानी बच्चों के लिए
आपका hindikahane.in पर स्वागत है। हम hindikahane.in पर हिंदी कहानी लिखते है। हमे हिंदी स्टोरी लिखना बहुत ही पसंद है। हम हिंदी स्टोरी के साथ ही और तरह की जानकारी भी हिंदी में देते है। आप हमें ईमेल कर सकते है। हमारे ईमेल id: [email protected] है

2 COMMENTS

  1. I am extremely impressed along with your writing skills and also with the format to your weblog. Is this a paid topic or did you modify it your self? Anyway keep up the nice quality writing, it’s rare to see a great weblog like this one these days.

  2. Sweet blog! I found it while browsing on Yahoo News.
    Do you have any suggestions on how to get listed in Yahoo News?
    I’ve been trying for a while but I never seem to get
    there! Many thanks

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here