stories in hindi for kids with moral हिंदी स्टोरी बच्चों के लिए

kids want to read and watch stories in hindi. here we give stories in hindi for kids. read the stories in hindi and fill it.

however hindi stories gives many lesson for every body. all the hindi stories is written in hindi language and with moral for kids. are you search stories in hindi on google and youtube.

stories in hindi

stories-in-hindi
stories-in-hindi

किसी जंगल में एक कोयल रहती थी। वह बहुत ही सुरीली आवाज में गाने गाती थी। एक दिन की बात है। वह कोयल एक पेड़ पर बैठ कर गा रही थी। उसे भूख भी लगी थी।

तभी उसे एक किसान दिखाई दिया जो अपने साथ एक डबे में कुछ कीड़े लेकर जा रहा था।उस कोयल ने उस किसान से कुछ कीड़े मागे। उस किसान ने कहा मैं तुम्हे कुछ कीड़े दे दुगा पर मुझे इसके बदले तुम्हरा एक पंख चाहिए।

वह कोयल तुरंत ही तैयार हो गई। उसने कीड़े लिए लेकर एक पंख तोड़ कर दे दिया। कोयल कीड़ा खा कर गाने लगी। कोयल काफी खुश थी। उसे लग रहा था। मेरे पास तो बहुत सारे पंख है।

और अगर मैं अपने कुछ पंख के बदले कुछ कीड़े ले लिया करु तो इसमें मेरा बहुत सारा समय बच जाया करेगा। अगले दिन भी उस कोयल ने भी ऐसा ही किया। उसे बहुत आराम मिलता था।

ऐसे ही कई दिन बीत गई। एक दिन ऐसा समय आया जब कोयल के शरीर पर एक भी पँख नहीं था। अब वह उड़ भी नहीं सकती थी। इस समय वह एक कीड़े को भी नहीं पकड़ सकती थी। अंत में उसे भूखे तड़प तड़प कर अपनी जान को त्याग दिया।

this stories in hindi moral is हमें किसी काम में आसान रास्ता नहीं इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

कंजूसी का ईट हिंदी स्टोरी

stories-in-hindi-for-kids
stories-in-hindi-for-kids

the moral of this story in hindi only save money is not better choice.

कही किसी जगह पर एक बहुत ही कंजूस आदमी रहता था। उसने पूरी जिंदगी कंजूसी करके बहुत सारा धन इकट्ठा कर लिया था।अब उस आदमी की उम्र भी काफी हो चला था।

उसे अपने पैसे को सुरक्षित रखने के चिंता होने लगी। कुछ ही दिनों में उसने एक उपाय खोज निकला। उसने अपना सारा धन दौलत को बेच कर एक सोने का ईट खरीद कर उसे एक मैदान में एक सुरच्छित जगह छुपा दिया।

वह समय समय पर उस जगह जाकर यह सुनिश्चित करता की ईट सुरछित है या नहीं। उसके इस व्यवाहर पर एक चोर को शक हो गया। की उस जगह खजाना छुपा रखा हैं।

वह चोर उसे चुराने का सही समय खोजने लगा। उसने एक रात उस सोने के ईट को चुरा लिया। अगले दिन जब वह कंजूस आदमी उस जगह पंहुचा तो उसे चोरी होने होने का अंदाजा हुआ।उसने जमीन को खोदकर देखा तो सोने का ईट गायब था। वह बहुत जोर जोर से रोने लगा।

तभी उस कंजूस आदमी का पड़ोसी वह पहुंच और उसने उसके रोने का कारण पूछा। उस कंजूस ने सारी बात को बता दिया। उस पडोसी ने समझाते हुए कहा, तुम्हे ज्यादा दुखी होने की जरुरत नहीं है।

अब तुम उस जगह पर एक पत्थर लेकर रख दो और उस पत्थर को अपने सोने का ईट मान लेना।वैसे भी तुम्हे उस सोने के ईट को इस्तेमाल तो करना नहीं था। तो पत्थर और सोने की ईट में कोई अंतर थोड़ी न है।

पसंद और साथ hindi kahani

stories-in-hindi-with-moral
stories-in-hindi-with-moral

एक राजकुमारी का दिल एक दास पर आ गया। वह उस दास को भूल से विवाह करना चाहती थी।राजा को यह बिल्कुल पसंद नहीं था की उनकी राजकुमारी एक दास से विवाह करे।

राजा ने बहुत ही प्रयाश किया की वह ऐसा न करे। पर ऐसा न होता बल्कि उसका उल्टा ही होता था।

अंत में राजा ने दूर देश से एक विद्वान को बुलाया। राजा ने उस विद्वान से सारी बात बताई।राजा की सारी बातें सुने के बाद उस विद्वान ने राजा से एक योजना सुनाई पर इस योजना पर राजा न तैयार हुए। फिर राजा ने सोचा इसके अलावा और कोई दूसरा रास्ता भी नहीं है। तो वह इस योजना को मान गए।

राजा ने राजकुमारी को बुलाया। राजा ने राजकुमारी से कहा “राजकुमारी तुम उस दास से विवाह कर सकती हो मगर तुम्हे हमारी एक शर्त माननी होगी। शर्त भी बहुत आसान सा है।”

राजकुमारी ने कहा “मैं किसी भी शर्त को मनाने के लिए तैयार हो”।

राजा ने कहा “शर्त यह है की दुनिया जहान से दूर सिर्फ एक ही कमरे में तुम्हे और दास को एक महीने साथ रहना होगा। सुख-सुबिधा के सारे वस्तु मौजूद रहेगा। मगर तुम दोनों उस कमरे से बहार नहीं आ सकते हो। अगर एक महीने साथ रह लिए तो मैं तुम दोनों का विवाह कर दुगा”।

राजकुमारी को यह अच्छा मौका लगा। वह तुरंत शर्त को मान लिया। अगले ही दिन से राजकुमारी और दास एक कमरे में चले गए। राजकुमारी और दास का पहला सप्ताह बहुत ही अच्छा था।

अगले सप्ताह राजकुमारी को बोरियत सी होने लगी। और राजकुमारी को दास की कुछ आदते बुरी लगने लगी। वह अब दास को पसंद करना कम करने लगी।

तीसरे सप्ताह आने पर उन दोनों में काफी झगड़े भी होने लगे। उन दोनों में काफी दुरी बढ़ गई। तीसरे सप्ताह के आखिरी में ही राजकुमारी कमरे से बहार आ गई।

राजा ने कहा ” किसी को पसंद करना दूसरी बात  मगर उसके साथ जिंदगी बिताना दूसरी बात है”।

Read Hindi story of kids with moral in short and Hindi kahaniya new for kids and baccho ki .

stories in hindi is read by everyone for taking good number of kniwledge.

Previous articleBest 10 Moral Hindi Story with lesson | हिंदी नैतिक कहानी बच्चों के लिए
Next articlehindi stories for kids in hindi हिंदी में बच्चों के लिए हिंदी कहानियाँ
आपका hindikahane.in पर स्वागत है। हम hindikahane.in पर हिंदी कहानी लिखते है। हमे हिंदी स्टोरी लिखना बहुत ही पसंद है। हम हिंदी स्टोरी के साथ ही और तरह की जानकारी भी हिंदी में देते है। आप हमें ईमेल कर सकते है। हमारे ईमेल id: [email protected] है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here