वकील कैसे बने? वकील बनने की पूरी जानकारी

वकील बनना भी बहुत से लोगों के लिए किसी सपने से कम नहीं होता है। कुछ छात्र तो बचपन से ही यह ठान लेते हैं कि, उन्हें बड़ा होकर वकील बनना है।

वह बचपन से ही वकील बनने की तैयारियां भी शुरू कर देते हैं। परंतु वकील बनने के लिए बच्चों के मां-बाप को भी उन पर मेहनत करनी होती है, क्योंकि बच्चों को बचपन से ही इस तरीके से रखना होता है कि, वह बड़े होकर आसानी से वकील बन सके।

वैसे तो हर एक व्यक्ति को अपने जीवन में एक सपना होता है, कि वह अपनी पढ़ाई पूरी करने के पश्चात एक कामयाब इंसान बनें। इसीलिए कुछ व्यक्ति Engineer बनना चाहते हैं, तो कुछ व्यक्ति का सपना होता है कि वह Doctor बने।

ऐसे ही कुछ व्यक्ति होते हैं, जिन्हें बचपन से ही वकील ( Advocate ) बनने का शौक होता है। आज हम इस पोस्ट के माध्यम से आपको बिल्कुल सही जानकारी देंगे की वकील कैसे बने.

तथा Eligibility For Becoming a Advocate In Hindi के बारे में बताएंगे. इसी के साथ साथ हम आपको वकील की सैलरी कितनी होती है यह भी बताएंगे।

यह भी जानें: CID officer कैसे बनें

वकील बनने की पूरी जानकारी
वकील बनने की पूरी जानकारी

LLB कोर्स क्या होता है – What Is LLB Course In Hindi?

LLB का Full Form होती है “Bachelor Of Legislative Law.” यह वकालत में एक Bachelor Degree होती है, और इस डिग्री को हासिल करने के पश्चात है हम वकील बन पाते हैं।

यदि आप भारत के कानून को समझना चाहते हैं, और इसी में अपना Career बनाना चाहते हैं, तो आपको एलएलबी करनी जरूरी होती है। क्योंकि LLB में ही आपको हर एक कानून के बारे में अच्छे से बताया जाता है।

यदि किसी निर्दोष को पुलिस पकड़ लेती है और उस पर आरोप लगाए जाते हैं, तो उस व्यक्ति के पक्ष से लड़कर आप उसे बचा सकते हैं।

यदि आपने LLB Course किया हुआ है, तो आपको LLB की पढ़ाई में हमारे देश के हर एक कानून के बारे में अच्छे से पढ़ाया गया होगा।इसीलिए यदि किसी भी व्यक्ति के ऊपर कोई जुर्म हो रहा है, तो आप उस व्यक्ति को जुर्म से बचा सकते हैं।

Advertisements

LLB करने के पश्चात आप कोर्ट में आसानी से वकील बन सकते है, अब आपको अच्छे से समझ आ गया होगा कि LLB कोर्स क्या होता है.

LLB कोर्स करने के लिए क्वालिफिकेशन – Eligibility for become an advocate in Hindi ?

LLB का कोर्स आप 2 तरीकों से कर सकते हैं. पहला तरीका तो यह है, कि यदि आप बारहवीं कक्षा के पश्चात LLB का कोर्स करते हैं, तो आपको यह कोर्स 5 साल का करना होता है। 12वीं कक्षा आर्ट्स सब्जेक्ट से करनी होती है।

दूसरा तरीका LLB Course करने का कि आप यदि 3 साल का LLB Course करना चाहते हैं, तो आपको पहले ग्रेजुएशन की डिग्री लेनी होती है। परंतु ग्रेजुएशन में आपके अंक कम से कम 55% होना बहुत आवश्यक है। उसके पश्चात ही आप 3 साल का LLB Course कर सकते हैं।

वकील कैसे बने – How to become an advocate?

हमने आपको यह तो बता ही दिया है, कि आप 12वीं कक्षा के पश्चात तथा ग्रेजुएशन ( Graduation ) करने के पश्चात LLB Course करके वकील बन सकते हैं।

लेकिन अगर आप 12वीं कक्षा के पश्चात यह कोर्स करते हैं, तो 12वीं आप आर्ट सब्जेक्ट से ही करिए, क्योंकि आर्ट्स ( Arts ) में आपको Law Subject थोड़े बहुत पढ़ा दिए जाते हैं।

12वीं कक्षा या ग्रेजुएशन करने के पश्चात आपको LLB Course करने के लिए सबसे पहले Enterence Exam पास करना होता है, हमारे भारत देश में यह CLAT ( Common Law Admission Test ) के नाम से प्रसिद्ध है।

यदि हम CLAT का Exam पास करते हैं, तो उसके पश्चात ही हमें LAW के कॉलेज में दाखिला मिल सकता है। CLAT के Exam में काफी कठिन Syllabus होता है।

इस परीक्षा में आप से इंग्लिश लॉजिकल रीजनिंग ( English Logical Reasoning ) , जनरल अवेयरनेस ( General Awareness ) तथा गणित ( Math ) आदि Subject के प्रश्न पूछे जाते हैं।

यह सभी बहुविकल्पी प्रश्न ( Multiple choice question ) होते हैं मतलब कि हर एक प्रश्न के चार उत्तर होते हैं, और इनमें से आपको कोई एक सही उत्तर को चुनना होता है।

इसके अतिरिक्त एक मुख्य बात यह है कि इस परीक्षा में नेगेटिव मार्किंग ( Negayive Marking ) भी होती है, मतलब यदि आप कुछ प्रश्न गलत करते हैं, तो आपके अंक भी काटे जाते हैं, इसीलिए आपको हर एक प्रश्न का उत्तर सोच समझ कर देना होता है।

Advertisements

यदि आप सामान्य जाति से हैं, तो CLAT की परीक्षा देने के लिए आपकी उम्र 20 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए, यदि आप ओबीसी या फिर SC / ST जाति से हैं, तो आपको उम्र में कुछ छूट दे दी जाती है।

इसके अतिरिक्त यदि आप Direct ही Law की पढ़ाई करना चाहते हैं, तो आप Private Collage से Law की पढ़ाई कर सकते हैं, परंतु यदि आप सिर्फ Government Collage से ही Law की पढ़ाई करना चाहते हैं।

तो आपको CLAT की परीक्षा को पास करना जरूरी होता है। क्योंकि यदि आप सरकारी कॉलेज से वकालत करते हैं, तो फीस भी कम लगती है और मान्यता भी ज्यादा होती है।

LAW की पढ़ाई करने के पश्चात इंटर्नशिप करें

जब आप Law की पढ़ाई पूरी कर लेते हैं, तो उसके पश्चात आपको किसी अच्छे सरकारी वकील की देखरेख में इंटर्नशिप ( Internship ) करनी होती है।

आपको इंटर्नशिप के दौरान वकील कुछ सैलरी भी दे सकते हैं। परंतु जरूरी नहीं है, कि आपको सैलरी मिले। इंटर्नशिप करना इसलिए जरूरी होता है, क्योंकि Internship के दौरान आपको कोर्ट- कचहरी के सभी प्रकार के कार्य समझ आ सके।

इंटर्नशिप करने के पश्चात State Bar Council के लिए Enroll करें

जब आप वकालत करने के पश्चात इंटर्नशिप पूरी कर लेते हैं। तो उसके पश्चात आपको अपने आप को State Bar Council में जाकर Enroll कराना होता है।

जब आप अपने आप को State Bar Council के साथ Enroll करा लेते हैं, तो उसके पश्चात आपको ( AIBE ) All India Bar Examination को पास करना होता है। जो कि हमारे भारत देश में Bar Counselling India के माध्यम से Conduct कराया जाता है।

इस को पास करने के पश्चात ही आपको वकालत का Practice Certificate मिल पाता है। इस प्रकार आप अपनी LLB की पढ़ाई पूरी कर सकते हैं।

इसके पश्चात यदि आप वकालत नहीं मास्टर करना चाहते हैं, तो आप LLM भी कर सकते हैं। जिसे हम Master’s In Legislative Law भी कहते हैं।

LLB कोर्स की फीस कितनी होती है – Fees Of LLB Course In Hindi?

यदि आप LLB Course करके वकील बनना चाहते हैं, तो आपके मन में यह सवाल अवश्य आता होगा कि यदि हम इस कोर्स को करते हैं तो LLB की फीस कितनी होती है.

Advertisements

तो हम आपको बता दें कि यदि आप सरकारी कॉलेज से वकालत करते हैं, तो आप यह मान कर चलिए की सरकारी कॉलेज में 1 साल की फीस ₹20000 से लेकर ₹40000 तक हो सकती है।

यदि आप प्राइवेट कॉलेज से LLB Course करते हैं, तो आप की 1 साल की फीस ₹80000 से लेकर ₹140000 तक हो सकती है। इसके अतिरिक्त यदि आपको Collage में Facility ज्यादा मिल रही हैं तो आपका खर्चा इससे ज्यादा भी आ सकता है।

यह भी जानें: शिक्षा का महत्व

वकील की सैलरी कितनी होती है – Salary Structure Of Advocate In Hindi?

यदि हम बात करें की एक वकील की सैलरी कितनी होती है, तो हम आपको बता दें। आपने अक्सर देखा होगा, कि बड़ी-बड़ी कंपनियां एक वकील को अपनी कंपनी में जरूर रखती हैं।

ऐसे ही यदि आपकी किसी अच्छी कंपनी में नौकरी लग जाती है, तो आपको शुरुआत में ₹35000 से लेकर ₹40000 तक की नौकरी भी मिल सकती है।

इसके अतिरिक्त यदि आप कोर्ट कचहरी में बैठते हैं, तो आपकी तनख्वाह आपके ऊपर निर्भर करती है। आपके पास जितने केस आएंगे, उसी हिसाब से आपकी तनख्वाह भी बन जाएगी।

यदि आप एक सरकारी वकील है, तो आपकी तनख्वाह ₹70000 से लेकर ₹80000 तक भी आसानी से हो सकती है। परंतु सरकारी वकील बनने के लिए आपको बहुत ज्यादा मेहनत करनी होती है, तब जाकर आप सरकारी वकील बन पाते हैं।

यह भी जानें: टीचर कैसे बने

निष्कर्ष

हमें उम्मीद है कि वकील कैसे बने से संबंधित हमारी यह पोस्ट बहुत ही पसंद आई होगी। इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको How To Become Government Advocate In Hindi के बारे में बताया है।

इसी के साथ-साथ हमने आपको वकील की सैलरी कितनी होती है और Eligibility For Government Advocate In Hindi के बारे में भी बताया है। अगर अभी आपको वकील कैसे बने से संबंधित कोई भी प्रश्न पूछना हो तो कमेंट सेक्शन में कमेंट करें। धन्यवाद

Advertisements

Previous articleइंटरनेट का महत्व हिंदी में | importance of internet in Hindi
Next articleधन का महत्व | Importance of money in hindi
आपका hindikahane.in पर स्वागत है। हम hindikahane.in पर हिंदी कहानी लिखते है। हमे हिंदी स्टोरी लिखना बहुत ही पसंद है। हम हिंदी स्टोरी के साथ ही और तरह की जानकारी भी हिंदी में देते है। आप हमें ईमेल कर सकते है। हमारे ईमेल id: [email protected] है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here